उपचुनाव : पूर्व केंद्रीय मंत्री कुशवाहा नेता ने चला ऐसा दांव कि RJD, JDU, कांग्रेस सब हो गए परेशान

बिहार के कुशवाहा समाज में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि ने उपचुनाव के दौरान ऐसा दांव चल दिया है कि आरजेडी से लेकर जेडीयू और कांग्रेस तक हैरान है. राष्ट्रीय शोषित समाज दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष नागमणि ने तारापुर विधानसभा क्षेत्र में आरजेडी और कुशेश्वरस्थान विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है.

नागमणि ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि हमारी पार्टी ने यह फैसला लिया है कि नीतीश कुमार और जेडीयू को पराजित करने के लिए हम विपक्षी दलों का समर्थन करेंगे. हमने कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस और तारापुर में आरजेडी के समर्थन का फैसला किया है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार का घमंड सातवें आसमान पर है. उनको रावण की तरह घमंड हो गया है. उनके घमंड को चकनाचूनर करना जरुरी है. दो विधानसभा सीटों के लिए हो रहे उपचुनाव पर पार्टी की रणनीति तय करने के लिए हमने अपनी पार्टी की कोर कमिटी के पदाधिकारियों की एक बैठक बुलाई थी जिसमें यह तय हुआ है कि हम कुशेश्वरस्थान में कांग्रेस को तारापुर में आरजेडी को समर्थन करेंगे.

एक तरह से चौंकाने वाला फैसला लेते हुए नागमणि ने कहा कि ये समर्थन वक्त की जरुरत है लेकिन मैं यह साफ कर देना चाहता हूं कि भविष्य में न मैं आरजेडी के साथ गठबंधन करुंगा और न ही कांग्रेस के साथ… समय के हालातों के मद्देनजर जेडीयू को हराना जरुरी है. इसी वजह से हमने कांग्रेस और आरजेडी के उम्मीदवारों के समर्थन का निर्णय किया है.

नागमणि जेडीयू को दुश्मन नंबर वन, आरजेडी को दुश्मन नंबर टू और कांग्रेस को दुश्मन नंबर तीन करार देते हुए कहा कि दुश्मन नंबर एक को हराना ही लक्ष्य है, इसके लिए दुश्मन नंबर दो और दुश्मन नंबर तीन को अपना समर्थन दे रहे हैं. हमारी पार्टी को अभी तक मान्यता नहीं मिली है. जिस दिन मान्यता मिल जाएगी और पार्टी का संगठन ग्राउंड लेवल तक काम करने लगेगा, उसके बाद से हम आगे की लड़ाई अकेले ही लड़ेंगे.

नागमणि ने यह साफ कर दिया कि उपचुनाव के लिए न तो कांग्रेस और न ही आरजेडी ने उनसे समर्थन की मांग की थी लेकिन कांग्रेस और आरजेडी के कुछ नेताओं से उनकी बातचीत हो रही थी. पिछले 15 सालों से नीतीश कुमार कुशवाहा समाज का वोट और समर्थन ले रहे थें लेकिन उनके लिए किया कुछ भी नहीं…ऐसे में आवश्यक है कि नीतीश कुमार को इस बात का एहसास कराया जाए.

वहीं आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के परिवार में चल रहे कलह पर बोलते हुए नागमणि ने कहा कि एक दौर था जब लालू यादव तीसमार खां हुआ करते थें. कभी लालू उनके भी नेता हुआ करते थें. वह दौर अगल था कि वह पिछड़ों और गरीबों, दलितों की बात उठाया करते थें, उनके लिए काम भी किया करते थें लेकिन अब समय बदल गया है. उनसे अपना परिवार तक नहीं संभल पा रहा है, वह अब क्या पार्टी संभाल पाएंगे. आरजेडी का कोई भविष्य नहीं है. कभी दौर था कि लालू प्रसाद यादव बिहार की राजनीति में एक फैक्टर हुआ करते थें पर अब उनकी कोई प्रासंगिकता नहीं बची है.

यह भी पढ़ें : नीतीश ने भकचोंधर बना दिया लालू को, RJD को कर दिया समाप्त

 

Leave a Reply