फिल्म “आदिपुरुष” को दर्शकों ने किया बहिष्कार तो दूसरी ओर डायरेक्टर के बेटे ने दिया समर्थन…

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की शौर्य गाथा पर आधारित फिल्म ‘आदिपुरुष’ को लेकर फैंस को काफी उम्मीदें थीं, हालाँकि, लोगों ने फिल्म आदिपुरुष के ट्रेलर को रिलीज होते ही फिल्म को बैन करने की मांग शुरू कर दी है तो वहीं दूसरी तरफ रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर का मिला समर्थन…..

इन दिनों फिल्म आदिपुरुष को लेकर हर तरफ माहौल काफी गर्म हो चुका है आपको बता दें डायरेक्टर ओम राउत के डायरेक्शन में बनी फिल्म आदिपुरुष का ट्रेलर लॉन्च होते ही लोगों ने फिल्म को बहिष्कार करना शुरू कर दिया है हालांकि वही प्रेम सागर ने इस फिल्म को लेकर अपना समर्थन दिखाया है….

यह भी पढ़ें:- आखिर वह कौन सी वजह थी,जिसके कारण बदलना पड़ गया था, राजेश खन्ना को अपना नाम।

बीते दिनों फिल्म आदिपुरुष का ट्रेलर लॉन्च किया गया जिसके बाद से ही लोगों ने नापसंद करना शुरू कर दिया.. आपको बता दें इस फिल्म में प्रभास राम और सैफ अली खान रावण की भूमिका निभा रहे हैं वहीं सीता के रोल में कृति सैनन हैं….

एक रिपोर्ट के मुताबिक, सर्व ब्राह्मण महासभा की तरफ से इस फिल्म के डायरेक्टर ओम राउत को लीगल नोटिस भी भेजा गया है जिसमें लिखा है, फिल्म में हिंदू देवी-देवताओं को गलत तरह से दिखाया गया है, फिल्म में नीचे दर्जे की भाषा का इस्तेमाल हुआ है जिससे धार्मिक भावनाएं आहत हो रही हैं…

ओम राउत की इस फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने के बाद नेगेटिव रिस्पॉन्स ही मिल रहा है. दर्शक इसके खराब VFX पर निशाना साध रहे हैं. साथ ही हनुमान से लेकर राम तक के किरदारों की आलोचना कर रहे हैं. इतना ही नहीं रामानंद सागर के द्वारा निर्मित ‘रामायण’ के राम, सीता और लक्ष्मण तक ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है और संस्कृति से छेड़छाड़ न करने की बात कही है…

वहीं अब डायरेक्टर के बेटे प्रेम सागर ने भी इस मामले पर चुप्पी तोड़ी है और इस मूवी के बारे में खुलकर अपनी राय रखी है….
प्रेम सागर ने एक न्यूज़ चैनल को दिए अपने इंटरव्यू में ओम राउत का बचाव किया है. कहा कि आप कैसे किसी को कुछ भी बनाने से रोक सकते हैं? समय के साथ धर्म बदलता है और ओम राउत ने जो महसूस किया, वही किया जो कि सही भी है…
उन्होंने आगे ओम राउत का पक्ष लिए बगैर कहा कि डायरेक्टर ने अपनी फिल्म को ‘रामायण’ नहीं कहा है. ऐसे में उन्होंने अपने हिसाब से कुछ भी गलत नहीं किया है, अगर उनके ‘कल्चर और परवरिश’ की वजह से कुछ भी गलत दिखाया जाता तो ओम राउत उस प्रोजेक्ट को कैंसल ही कर देते….

यह भी पढ़ें:- आखिर वह कौन सी वजह थी,जिसके कारण बदलना पड़ गया था, राजेश खन्ना को अपना नाम।

एक तरफ जहां रामानंद सागर के बेटे प्रेम सागर ने भले ही फिल्म ‘आदिपुरुष’ का बचाव किया हो, लेकिन ‘रामायण’ में राम का किरदार निभा चुके एक्टर अरुण गोविल ने हाल ही में एक वीडियो जारी कर टीजर का विरोध जताया था. उन्होंने कहा था, “सांस्कृतिक और धार्मिक धरोहर से छेड़छाड़ करना ठीक नहीं है.”
रामानंद सागर के द्वारा बनाए गए ‘रामायण’ सीरीयल का आज तक कोई मुकाबला नहीं कर पाया है. न उनके जैसे पात्र दिखाई दिए और न ही लोगों का उतना जुड़ाव देखने को मिला. इसलिए आज तक जितनी भी ‘रामायण’ पर शोज या फिल्में बनाई गईं, दर्शकों को वह कुछ खास पसंद नहीं आईं, आदिपुरुष के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है…..

गौरतलब है कि रामानंद सागर की ‘रामायण’ साल 1987 में दूरदर्शन पर टेलिकास्ट हुई थी, जिसे दर्शकों ने खूब पसंद किया था. ये शो आज भी काफी लोकप्रिय है. वहीं कोविड के दौरान लॉकडाउन में इसे फिर से टीवी पर दिखाया गया था. और इसके रीटेलीकास्ट को भी भरपूर प्यार मिला था….

यह भी पढ़ें:- आखिर वह कौन सी वजह थी,जिसके कारण बदलना पड़ गया था, राजेश खन्ना को अपना नाम।

Leave a Reply