डॉक्टर सफेद कोट क्यों पहनते हैं ? ऑपरेशन के वक्त हरा ड्रेस क्यों ?

आप जब भी कभी अस्पताल गए होंगे, आपने इस बात पर गौर किया होगा कि डॉक्टर्स और नर्स वहां पर सफेद कोट पहनते हैं. वहीं जब वह ऑपरेशन थियेटर में जाते हैं तो हरे रंग का लंबा सा गाउन जैसा कपड़ा पहन लेते हैं. आपके मन में अक्सर इस बात की जिज्ञासा होती होगी कि डॉक्टर्स सफेद कोट क्यों पहनते हैं. आज हम इस बारे में ही बताने जा रहे हैं.

डॉक्टरों के सफेद कोट पहनने की कहानी बेहद पुरानी है या यूं कह लें कि 19वीं सदी के भी पहले की है. उस दौर में सिर्फ वैज्ञानिक और प्रयोगशालाओं में काम करने वाले लोग ही सफेद कोट पहना करते थें. वैज्ञानिकों का एक समूह उस वक्त डॉक्टरों की चिकित्स पद्धति को लगातार चुनौतियां दे रहा था. तत्कालीन शासन भी डॉक्टरों की तुलना में वैज्ञानिकों को ज्यादा विश्वसनीय मानता था.

जानकारी : वकील हमेशा काला कोट क्यों पहनते हैं ? वजह बड़ी दिलचस्प है

ऐसे में डॉक्टरों ने भी खुद का वैज्ञानिक सिद्ध करने के लिए मैदान में एंट्री मारी. चिकित्सा के पेशे को विज्ञान में तब्दील करने का फैसला किया गया. इसी क्रम में 1889 एडी में डॉक्टरों ने सफेद कोट पहनने की शुरुआत कर दी. डॉ जॉर्ज आमस्ट्रांग ने सबसे पहले सफेद कोट पहनना शुरु किया. डॉ जॉर्ज कनाडा के थें. इस तरह से मॉर्डन मेडिकल जगत में सफेद कोट का श्रेय डॉ जॉर्ज को जाता है.

वहीं सफेद रंग शांति और विश्वास का प्रतीक होता है. माना जाता है कि कोई भी मरीज जब अस्पताल आता है, तो वो बेहद तनाव भरे माहौल में होता है. मरीजों का तनाव दूर हो, उन्हें शांति और सुकून मिले, इसलिए भी डॉक्टर सफेद कोट पहनते हैं.

गाय का घी खाने से कौन-कौन से फायदे हो सकते हैं।

वहीं एक दूसरा सवाल आ जाता है कि ऑपरेशन करते वक्त डॉक्टर हरा कपड़ा क्यों पहन लेते हैं ? इसका जवाब यह है कि हरे रंग आंखों को चुभते नहीं है, आराम देते हैं. ऑपरेशन के वक्त मरीज का खून देखकर डॉक्टर तनाव में न आएं… इसलिए ऑपरेशन के दौरान हरे रंग के कपड़े डॉक्टर पहन लेते हैं. पहले के समय में ऑपरेशन के समय भी डॉक्टर सफेद कोट ही पहनते थें लेकिन 1914 में एक प्रभावशाली डॉक्टर ने इस परंपरा को बदल दिया.

सरदार सिमरनजीत सिंह

यह भी पढ़ें : जानकारी : वकील हमेशा काला कोट क्यों पहनते हैं ? वजह बड़ी दिलचस्प है

 

Leave a Reply