कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए एक और अच्छी खबर !

हिमाचल प्रदेश की जनता ने कांग्रेस को बहुमत दिया। राज्य में कांग्रेस की सरकार ने सत्ता की बागडोर संभाल ली है। किसी भी राजनैतिक दल को सत्ता की दहलीज तक पहुंचाने में सबसे बड़ी भूमिका कार्यकर्ताआें की होती है। कार्यकर्ता किसी भी पार्टी की रीढ़ होते हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को अक्सर अपनी पार्टी से इस बात की शिकायत रहती है कि सत्ता मिलते ही पार्टी अपने कार्यकर्ताओं से मुंह मोड़ लेती है और इसी वजह से कांग्रेस देश भर में वीरगति को प्राप्त हो रही है….

खैर, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हिमाचल प्रदेश में खूब पसीना बहाया… सीधे केंद्र की सरकार, राज्य की सरकार, प्रधानमंत्री से लोहा लिया और भाजपा को धूल चटाकर कांग्रेस की सरकार बनवाई….. अब कांग्रेस अपनी पुरानी गलतियों को सुधार कर पार्टी कार्यकर्ताओं को सीधे सत्ता में भागीदार बनाने जा रही है।

विधायकों, पूर्व विधायकों, संगठन में काम करने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं को कांग्रेस बोर्ड और निगमों में समायोजित करने जा रही है। इन बोर्ड निगमों में विधायकों, पूर्व विधायकों, टिकट से वंचित रह गए नेताओं, संगठन में काम करने वाले कार्यकर्ताओं को तरजीह दी जाएगी और शासन में हिस्सेदार बनाया जाएगा।

दरअसल राज्य के सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू स्वयं संगठन से जुड़े नेता रहे हैं। उन्हें कार्यकर्ताओं का दर्द पता है लिहाजा सरकार बनने के बाद किसी भी हाल में कार्यकर्ताओं की हकमारी न हो, इसके लिए सीए सुक्खू प्रयासरत हैं।

Leave a Reply