खतरे में नीतीश की कुर्सी : BJP-JDU की जंग में कूदे मांझी, बिहार छोड़ कर चले जाइए

बिहार की राजनीति में उथल पुथल तेज हो गई है. चार टांगों पर सवार बिहार में एनडीए सरकार की कुर्सी डगमगाती जा रही है. सरकार का नेतृत्व कर रहें सीएम नीतीश कुमार खामोश हैं बाकी सब बोल रहे हैं. पिछले काफी दिनों से बिहार बीजेपी के अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल लगातर नीतीश कुमार की सरकार पर हमलावर हैं. जायसवाल लगातार बिहार सरकार की कार्यशैली और नीतियों पर सवाल उठाते आ रहे हैं. जायसवाल को जवाब देने के लिए जेडीयू ने भी अपने प्रवक्ताओं को उतार दिया लेकिन मामला अब दिन प्रतिदिन गड़बड़ाता ही जा रहा है.

बिहार में MLAऔर MLC की सैलरी जानकर हैरान रह जाएंगे…

सरकार में भागीदार पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोरचा सेकुलर ने अब डॉ संजय जायसवाल और भाजपा के ही सांसद छेदी पासवान के बयान का विरोध किया है. हम सेकुलर का साफ तौर पर कहना है कि बिहार को हर हाल में विशेष राज्य का दर्जा मिलना चाहिए. सहयोगी दल यानी भाजपा के नेता विशेष राज्य के दर्जे को लेकर बेतुकी बयानबाजी कर रहे हैं.

हम प्रवक्ता दानिश रिजवान का कहना है कि बिहार को विशेष राज्य के दर्जे का विरोध वही लोग कर रहे हैं जिसमें बिहारी डीएनए नहीं है. बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने का प्रस्ताव सदन से भी पारित हो चुका है. जो लोग बिहार के हक से खिलवाड़ करेंगे, बिहार की जनता उन्हें बर्दाश्त नहीं करेगी.

JDU नेता के पियक्कड़ सम्मेलन के बाद RJD नेता का गंजेड़ी सम्मेलन राग

कल ही भाजपा सांसद छेदी पासवान ने भी सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए विशेष राज्य के दर्जे की मांग को ब्लैकमेलिंग और बारगेन पॉलिटिक्स का हिस्सा बताया था. छेदी पासवान ने साफ तौर पर कहा कि जब केंद्र सरकार साफ कर चुकी है कि विशेष राज्य का दर्जा देना संभवन नहीं है. जब केंद्र सरकार बिहार को विशेष पैकेज दे चुकी है तो जेडीयू सहयोगी दल होते हुए भी इस तरह की बात को क्यों हवा दे रही है.

यह भी पढ़ें : मुसलमानों की मांग, नीतीश कुमार को मिले नोबल पुरस्कार

 

Leave a Reply