लालू यादव के राह पर चले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी..

इन दिनों लालू यादव के राह पर चले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.जी हां आपको बता दें शनिवार यानि कि आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कि मां हीराबा का 100वां जन्मदिन है और इस खास अवसर पर पीएम मोदी ने अपनी मां हीराबा के नाम पर गांधीनगर में एक सड़क का नामकरण करने का कर दिया है ऐलान।

यह भी पढ़ें:- दो दिवसीय दौरे पर जम्मू-कश्मीर पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, वहीं एक कार्यक्रम के दौरान दिए विधानसभा चुनाव के संकेत..

आपको बता दें इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके लालू प्रसाद यादव ने भी अपनी मां मरछिया देवी के नाम पर 1990 में अपने गांव फुलवरिया में एक अस्पताल बनवाया था और अब नरेंद्र मोदी भी अपनी मां हीराबा के नाम से सड़क बनवाएंगे।

बता दें कि इन दिनों नरेंद्र मोदी गुजरात दौरे पर हैं और आज उनका दूसरा दिन हैै और प्रधानमंत्री आज गुजरात के पंचमहाल जिले में पावागढ में पहाड़ी के शिखर पर बने कालिका माता के मंदिर को देशवासियों को समर्पित करेंगे। यह मंदिर काफी ऐतिहासिक है तथा इस मंदिर से लाखों श्रद्धालु जुड़े हुए हैं और सभी उसके पुनरुद्धार से बहुत खुश है।

आज तारीख भी 18 जून है और प्रधानमंत्री के लिए यह दिन सबसे खास है क्योंकि हीराबा का 100वां जन्मदिन भी आज है,प्रधानमंत्री के छोटे भाई पंकज मोदी ने बताया कि, हीराबा का जन्म 18 जून 1923 को हुआ था। इस खास अवसर पर नरेंद्र मोदी गांधीनगर में स्थित आवास पर अपनी मां से मिलने पहुंचे।

अपनी मां के चरण धोए और अपने हाथों से मिठाई खिलाई इसके बाद आशीर्वाद लिया तथा इस मौके पर वडनगर के हाटकेश्वर मंदिर में पूजा आयोजित किया गया है। खबरों अनुसार यह कहा जा रहा है कि सुंदर काण्ड के पाठ से लेकर शिव आराधना तक की जाएगी। इतना ही नहीं नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर हीराबा के नाम पर गांधीनगर में एक सड़क का नामकरण करने का ऐलान भी किया।

गांधीनगर मेयर हितेश मकवाना का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबा आज 100 साल की हो गई है। इस मौके पर लोगों की मांग और भावनाओं को ध्यान में रखते हुए रायसण पेट्रोल पंप से 80 मीटर सड़क अब पूज्य हीराबा मार्ग के नाम से जाना जाएगा। इसका मुख्य मकसद उनका नाम आने वाली पीढ़ियों तक पहुंचाना है।

आगे उन्होंने बताया कि हीराबेन का नाम हमेशा जीवित रखने और आने वाली पीढ़ियों के लिए त्याग, तपस्या, सेवा और कर्तव्यनिष्ठा का पाठ सीखने के उद्देश्य से 80 मीटर की सड़क का नाम बदलने का निर्णय लिया गया है।




Leave a Reply