पटना : बढ़ता जा रहा है लिव इन रिलेशनशिप में रहने का रिवाज…

नए दौर में लिव इन रिलेशनशिप सामान्य बात हो गई है. बिहार की राजधानी पटना में भी अब सैकड़ों कपल्स ऐसे हैं जो बिना शादी के एक साथ रह रहे हैं. इनमें से अधिकांश लोग ऐसे हैं जिसमें लड़का और लड़की दोनों जॉब करते हैं. दिन भर अपने काम में व्यस्त रहते हैं और ऑफिस से आने के बाद साथ रहते हैं.

वियाग्रा खाने से नहीं बिस्तर पर पार्टनर ऐसे होती हैं संतुष्ट

पटना के सबसे महंगे और पॉश माने जाने वाले पाटलीपुत्रा कॉलोनी, बोरिंग रोड, बेली रोड, आनंदपुरी जैसे इलाकों में में लिव इन रिलेशनशिप वाले कपल्स मिल जाते हैं. दरअसल पाटलीपुत्रा कॉलोनी जैसे इलाकों में फ्लैट काफी महंगे मिलते हैं. किसी एक व्यक्ति के बस का नहीं है. ऐसे में यहां पर लिव इन रिलेशनशिप कल्चर डेवलप हो गया है. युवाओं की नजर में लिव इन रिलेशनशिप एक सुखद एहसास है. आजादी है, उन्मुक्तता है, स्वच्छंदता है.

पहले हमारे समाज में लिव इन रिलेशनशिप को अच्छी नजर से नहीं देखा जाता था लेकिन वक्त बदला तो लोगों का नजरिया भी बदल गया है. वैसे किसी का नजरिया बदले या न बदले… नई पीढ़ी बागी तेवर की होती है. वो किसी की नहीं सुनते. उन्हें जो अच्छा लगता है या जो उनका दिल करता है, वह वही करते हैं.

पशुपति पारस को सीट मिलने पर RJD नेता ने जताई खुशी, जानिए वजह….

बहुत सारे लोगों को महसूस होता होगा कि लिव इन रिलेशनशिप में रहना बड़ा मजेदार अनुभव होता है जबकि सच तो यह है कि यह काफी चुनौतीपूर्ण होता है.शादी के बाद कुछ उन्नीस बीस हुआ तो बर्दाश्त करना पड़ता है लेकिन लिव इन रिलेशनशिप में कुछ भी इधर हुआ तो दोनों के रास्ते अलग हो जाते हैं.

जो लोग लिव इन रिलेशनशिप को सही नहीं मानते, वो कहते हैं कि बिना शादी के पति पत्नी की तरह रहना. हर वो काम करना जो पति पत्नी करते हैं. सिर्फ मंगलसूत्र और सिंदूर नहीं होता और बच्चे पैदा नहीं होते. यह हमारी संस्कृति के लिहाज से ठीक नहीं है. ज्यादातर लोगों की सोच सिर्फ फिजिकल रिलेशनशिप पर जाकर खत्म हो जाती है कि बिना शादी के फिजिलक रिलेशनशिप करना कितना सही है लेकि क्या बिना शादी के फिजिकल रिलेशनशिप नहीं होते….

नए दौर में प्यार हुआ और कुछ ही दिनों में होटल के कमरे में ख्वाहिशें पूरी होनी शुरु हो जाती है. नई पीढ़ी को इसमें कुछ भी गलत नहीं लगता. ऐसे में अगर एक कपल बिना शादी के एक साथ रहता है और फिजिकल रिलेशनशिप कर रहा है तो इसमें क्या गलत है…. यह सोच आज की पीढ़ी की है.

एक लड़की की सच्ची कहानी : मीठी खुजली सी हो रही थी, पायल ने कहा… ये हस्तमैथुन है

अब यह कितना सही है या कितना गलत है, ये वही तय करे जिसे लिव इन रिलेशनशिप में रहना है. हमें कोई अधिकार नहीं कि हम दूसरों के मामले में सरपंच बनते फिरें. कानून के दायरे में रहकर जिसे जो करना है वो कर सकता है, इसकी आजादी तो देश का संविधान भी देता है, फिर हम कौन हैं !

 

Simranjeet singh

यह भी पढ़ें : शादी के दिन दूल्हे के दोस्त के साथ बनाए शारीरिक संबंध, दुल्हन खुश

Leave a Reply