भारतीय महिला क्रिकेटर मिताली राज ने लिया अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास।

भारत की महिला क्रिकेटर और टीम इंडिया कि पूर्व कप्तान रह चुकी मिताली राज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से लिया रिटायरमेंट। एक लंबे समय तक भारतीय महिला क्रिकेट में अहम योगदान देने के बाद मिताली राज ने किया क्रिकेट जगत को अलविदा। हालांकि वहीं मिताली राज का टीम इंडिया को वर्ल्डकप कप दिलाने का सपना पूरा नहीं हो सका।

आपको बता दें कि दाएं हाथ की बल्लेबाज और महिला क्रिकेट टीम की सचिन तेंदुलकर बोले जाने वाली मिताली राज आखिरी बार न्यूजीलैंड में खेले गए वनडे वर्ल्ड कप क्रिकेट का हिस्सा थी। भारतीय टीम यहां ट्रॉफी जीतने में तो असफल रही और इसके साथ ही वर्ल्डकप जितने का मिताली राज का सपना भी अधुरा रह गया क्योंकि मिताली राज के करियर का यह आखिरी वर्ल्ड कप था।

अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत 26 जून 1999 करने वाली मिताली राज ने मार्च 2022 तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भाग लिया। इस दौरान उन्होंने 12 टेस्ट, 232 वनडे इंटरनेशनल और 89 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले। 12 टेस्ट मैचों में वे 1 शतक और 4 अर्धशतकों के साथ 699 रन बनाई, जबकि वनडे में उन्होंने 7 शतक और 64 अर्धशतकों के साथ 7805 रन बना चुकी है। वहीं, टी20 क्रिकेट में 17अर्धशतकों के साथ 2364 रन बनाए हैं।

वहीं मिताली राज ने अपने रिटायरमेंट का ऐलान करने के तुरंत बाद ही एक इमोशनल पोस्ट सोशल मीडिया अकाउंट पर डाला। मिताली राज ने अपने पोस्ट में लिखा, “मैं इंडिया की नीली जर्सी पहनने की यात्रा पर एक छोटी लड़की के रूप में निकली, क्योंकि अपने देश का प्रतिनिधित्व करना सर्वोच्च सम्मान है।

यात्रा ऊंचाइयों और कुछ चढ़ावों से भरी थी। प्रत्येक घटना ने मुझे कुछ अनोखा सिखाया और पिछले 23 वर्ष मेरे जीवन के सबसे अधिक पूर्ण, चुनौतीपूर्ण और आनंददायक रहे हैं। ऐसे में सभी यात्राओं की तरह, इस यात्रा को भी समाप्त होना चाहिए।”

आगे उन्होंने लिखा, “आज वह दिन है जब मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले रही हूं। जब भी मैंने मैदान पर कदम रखा, मैंने भारत को जीतने में मदद करने के इरादे से अपना सर्वश्रेष्ठ दिया। तिरंगे का प्रतिनिधित्व करने के लिए मुझे जो अवसर मिला है, मैं उसे हमेशा संजो कर रखूंगी। मुझे लगता है कि अब मेरे खेलने के करियर से पर्दा उठाने का सही समय है, क्योंकि भारतीय टीम कुछ बहुत ही प्रतिभाशाली युवा खिलाड़ियों के हाथों में है और भारतीय क्रिकेट का भविष्य उज्ज्वल है।

इसके साथ ही मिताली ने आगे बीसीसीआई समेत बाकी लोगों को धन्यवाद किया और लिखा इतने सालों तक टीम का नेतृत्व करना सम्मान की बात थी। इसने मुझे निश्चित रूप से एक व्यक्ति के रूप में आकार दिया और उम्मीद है कि भारतीय महिला क्रिकेट को भी आकार देने में मदद मिलेगी।

मिताली राज अपने पत्र के अंत के कुछ पंक्तियों में लिखा कि, “यह यात्रा भले ही समाप्त हो गई हो, लेकिन एक और संकेत मिलता है, क्योंकि मुझे उस खेल में शामिल रहना अच्छा लगेगा जो मुझे पसंद है और भारत तथा दुनिया भर में महिला क्रिकेट के विकास में योगदान देता है।

अपने प्रशंसकों के लिए मिताली ने लिखा, “आप सभी के प्यार और समर्थन के लिए धन्यवाद।” इसके साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट रूप से बताया कि वे आगे भी क्रिकेट से जुड़ी रहेंगी, चाहे वह कोचिंग में अगली पारी हो या फिर कमेंटेटर या अन्य किसी तरह से क्रिकेट से जुड़ना हो। इसलिए भले ही आप मिताली राज को बतौर भारतीय क्रिकेटर के रूप में क्रिकेट मैच खेलते हुए नहीं देख पाएंगे लेकिन वह खेल से हमेशा जुड़ी रहेंगी।

Leave a Reply