भारत रत्न से सम्मानित स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने ली आज अपनी आखिरी सांस।

भारत की स्वर कोकिला कहलाने वाली तथा भारतीय सिनेमा की प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर नहीं रही। 29 दिनों से मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थी लता मंगेशकर। बीते शनिवार को उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई थी।

भारत रत्न से सम्मानित लीजेंडरी गायिका लता मंगेशकर का रविवार यानी,कि आज सुबह लगभग 8:12 पर निधन हो गया। उन्होंने मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में अपनी आखिरी सांस ली। लता मंगेशकर की मौत का मुख्य वजह उनके मल्टी ऑर्गन फेलियर होना बताया जा रहा है।

तकरीबन 1 महीने पहले ही उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था और तब से देश के हर जगहों से लता मंगेशकर के स्वस्थ होने के लिए लोग कामनाएं कर रहे थे। हालांकि ऊपर वाले को कुछ और ही मंजूर था। लोगों की दुआएं काम नहीं आई। आज सुबह उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद लता मंगेशकर को 8 जनवरी को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उस दौरान डॉक्टरों का यह कहना था, कि कोरोनावायरस के लक्षण कम दिख रहे हैं, मगर बढ़ती उम्र और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को देखते हुए उन्हें आईसीयू में ही रखा गया था।

लता मंगेशकर की उम्र को भी ध्यान में रखते हुए उन्हें बेहतरीन निगरानी में रखा गया था। हालांकि डॉक्टरों का यह भी मानना था कि लता मंगेशकर जल्द ही स्वस्थ हो जाएंगी।

ब्रिज कैंडी अस्पताल में लता मंगेशकर का इलाज कर रहे उनके डॉक्टर प्रतित समदानी ने 16 जनवरी को बताया था, कि लता मंगेशकर को देखभाल की जरूरत ज्यादा है और इस बात को मद्देनजर रखते हुए उन्हें आईसीयू में कुछ दिन और रखने का निर्णय लिया गया था।

डॉक्टरों की सलाह पर ही किसी को भी लता मंगेशकर से मिलने की इजाजत नहीं थी। क्योंकि वह न सिर्फ करोना से संक्रमित थी बल्कि उन्हें निमोनिया भी था।

भारत की स्वर कोकिला लता मंगेशकर के अचानक निधन पर 2 दिनों तक राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है और इस दौरान लता मंगेशकर के सम्मान के रूप में देश का तिरंगा आधा झुका होगा।

लता मंगेशकर के निधन पर बॉलीवुड से लेकर देश के दिग्गज नेताओं ने भी सोशल मीडिया के जरिए अपने-अपने दुख प्रकट किए हैं।


 

Leave a Reply